Jhalko Media

दिल्ली में ऑड-ईवन; CNG कारों पर भी रोक, 20 हजार जुर्माना! घर से निकलने से पहले देखे जरूरी जानकारी

 | 
दिल्ली में ऑड-ईवन; CNG कारों पर भी रोक, 20 हजार जुर्माना! घर से निकलने से पहले देखे जरूरी जानकारी
Delhi Odd Even Rules: ऑड-ईवन स्कीम का आना है, जानिए किन गाड़ियों पर होगी रोक, क्या हैं नियम और कितना होगा जुर्माना दिल्ली, 13 नवंबर 2023: दिल्ली में प्रदूषण को रोकथाम के लिए ऑड-ईवन स्कीम 13 नवंबर से लागू हो रही है। इस योजना के तहत, मुख्यत: प्राइवेट फोर-वीलर गाड़ियों और लाइट मोटर वीकल्स पर रोक लगेगी। सुप्रीम कोर्ट की मंजूरी के बाद, यह स्कीम दिल्ली में एक हफ्ते के लिए लागू होगी।

रोक लगने वाली गाड़ियां:

  1. प्राइवेट फोर-वीलर गाड़ियां: इस स्कीम के तहत, प्राइवेट फोर-वीलर गाड़ियों पर रोक लगेगी।
  2. लाइट मोटर वीकल्स: ऑटोमोबाइल्स, टू-वीलर्स, और अन्य लाइट मोटर वीकल्स भी इस स्कीम के दायरे में आएंगी।

योजना के नियम:

  1. इलेक्ट्रिक गाड़ियां: ऑड-ईवन स्कीम के तहत, इलेक्ट्रिक गाड़ियों को छूट मिलेगी।
  2. बच्चों के साथ महिला ड्राइवर्स: जो महिला ड्राइवर हैं और उनकी गाड़ी में 12 साल से कम उम्र के बच्चा है, उन्हें भी छूट मिलेगी।
  3. अस्पताल गाड़ियां: बीमार लोगों को अस्पताल ले जा रही गाड़ियों को वेरिफिकेशन के बाद छूट दी जा सकती है।

जुर्माना और छूट:

  1. जुर्माना: ऑड-ईवन स्कीम के नियमों का उल्लंघन करने पर 20,000 रुपये का जुर्माना होगा।
  2. छूट: इस स्कीम से छूट का आनंद उन गाड़ियों को मिलेगा जो इलेक्ट्रिक या सीएनजी से चलती हैं, बच्चों के साथ महिला ड्राइवर्स, और अस्पताल गाड़ियां।

प्रभाव:

ऑड-ईवन स्कीम का प्रभाव दिल्ली और आसपासी राज्यों में रजिस्टर्ड गाड़ियों पर भी होगा। यह योजना न केवल प्रदूषण को कम करेगी, बल्कि ग्रीन और सस्ते यातायात को बढ़ावा देगी। ऑड-ईवन स्कीम के इस चरण में, लोगों को सार्थक और पर्यावरण-सहायक यातायात के लिए अपनी योजनाएं बनाने और अपनी यात्रा को सहज बनाए रखने की आवश्यकता है। इस स्कीम से उठने वाले चुनौतियों का सामना करने के लिए लोगों को सहयोग करने के लिए सरकारी और प्राइवेट संगठनों के साथ मिलकर काम करना होगा।

निष्कर्ष:

ऑड-ईवन स्कीम का लागू होना एक सकारात्मक कदम है जो न केवल प्रदूषण को कम करेगा, बल्कि लोगों को भी सस्ते और पर्यावरण-सहायक यातायात की ओर प्रेरित करेगा। इसमें सफलता प्राप्त करने के लिए, सभी स्तरों के लोगों को मिलकर काम करना होगा और सभी को इस सकारात्मक पहल का समर्थन करना होगा।