Jhalko Media

Elvish Yadav: कोबरा का जहर सप्लाई करने में एल्विश का नाम आया, अब तक 5 लोग गिरफ्तार

 | 
Elvish Yadav: कोबरा का जहर सप्लाई करने में एल्विश का नाम आया, अब तक 5 लोग गिरफ्तार
Elvish Yadav Noida News: 'बिग बॉस ओटीटी' के विनर एल्विश यादव इन दिनों खूब चर्चा में है। इस बीच यूट्यूबर को लेकर एक बड़ी खबर सामने आ रही है, जो उनके फैंस को निराश कर सकती है। दरअसल, नोएडा रेव पार्टी में पुलिस की रेड पड़ी है। इस रेड के दौरान पुलिस ने 5 कोबरा बरामद किए हैं। इतना ही नहीं इस पार्टी में सांप का जहर भी मिला है। इस रेड के दौरान पुलिस ने जिन लोगों को गिरफ्तार किया है, उनसे पूछताछ की जा रही है। बता दें कि इस पूछताछ में एल्विश यादव का नाम भी सामने आया है। पुलिस ने एल्विश के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई है। आइए आपको विस्तार से पूरा मामला समझाते हैं। एल्विश यादव के खिलाफ दर्ज हुई एफआईआर दरअसल, यह मामला वन्यजीव संरक्षण से जुड़ा हुआ है। खबरों की मानें, तो एल्विश यादव पर तस्करी से लेकर गैर कानूनी तरीके से रेव पार्टी आयोजित कराने का आरोप लगा है। बताया जा रहा है कि एल्विश यादव तस्करी करने वाले लोगों से भी जुड़े हुए हैं। बता दें कि एक एनजीओ ने स्टिंग ऑपरेशन कर नोएडा पुलिस को इस पार्टी की जानकारी दी थी, जिसके आधार पर नोएडा पुलिस अब कार्रवाई कर रही है। यह छापेमारी पुलिस ने नोएडा सेक्टर 49 में की है, जहां से 5 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। क्या है पूरा मामला? इस रेड में नोएडा पुलिस को 5 कोबरा बरामद हुए हैं और इसी के साथ सांप का जहर भी पुलिस को मिला है। इस रेड में स्नेक वेनम, पांच कोबरा, एक अजगर, दो दुमहा सांप, एक घोड़ा पछाड़ सांप बरामद हुआ है। बता दें कि एल्विश यादव के खिलाफ दर्ज हुई एफआईआर में यह लिखा गया है कि 'पीपल फॉर एनिमल' में 'एनिमल वेलफेयर ऑफिसर' के पद पर कार्यरत गौरव गुप्ता को नोएडा में इस तरह की गतिविधियों की सूचना मिल रही थी। ये भी पता चला था कि यूट्यूबर एल्विश यादव नोएडा-एनसीआर के फार्म हाउसों में कुछ लोगों के साथ मिलकर स्नेक वेनम व जिंदा सांपों के साथ वीडियो शूट कराते हैं। इसके साथ ही गैर कानूनी रूप से रेव पार्टियों को आयोजित कराने की भी शिकायत एफआईआर में दर्ज है। इस मामले में कैसे फंसे एल्विश यादव? खबरों के अनुसार, एक मुखबिर ने एल्विश यादव से संपर्क किया था और इस पार्टी के बारे में पूछा था, जिस पर एल्विश यादव ने एक राहुल नामक एजेंट का नंबर दिया था और कहा था कि उनका नाम लेकर बात कर ले। जब मुखबिर ने राहुल से बात करके पार्टी आयोजित करने के लिए उसे बुलाया, तो शिकायतर्ता ने इसकी सूचना वन विभाग के अधिकारियों और पुलिस को दे दी थी, जिस वजह से मौके पर पुलिस ने पहुंच कर वहां मौजूद 5 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया।